दैनिक श्रेष्ठ सृजन-04/05/2021

www.sangamsavera.in
संगम सवेरा वेब पत्रिका
साहित्य संगम संस्थान
रा. पंजी. सं.-S/1801/2017 (नई दिल्ली)

# दैनिक श्रेष्ठ सृजन-04/05/2021#

संपादक (दैनिक सृजन) - आ.वंदना नामदेव
पंच-परमेश्वरी- 
1.आ.दीपमाला तिवारी
 2.आ.सरिता तिवारी 'राखी'

★नोट:- Top Menu में दिए गए डाउनलोड लिंक से सम्मान-पत्र डाउनलोड 📩 करें।★

हार्दिक शुभकामनाएँ🌷🌻🌹

श्रेष्ठ रचनाकार-
1.आ. प्रेमलता उपाध्याय" स्नेह" जी
2.आ. छाया सक्सेना प्रभु जी
3. आ. वर्तिका अग्रवाल जी


श्रेष्ठ टिप्पणीकार- 
1.आ. ऐश्वर्या सिन्हा चित्रांश जी
           
      
                   ******


 पंचदेव 


कुंडलिया छंद
=========

गजा नंद ब्रह्मा तुम्हें ,दूँ मन में आकार ।
पंचदेव वंदन करूँ, सुनो मेरी पुकार ।।
सुनो मेरी पुकार ,दया विष्णु जी कर जाओ।
घोर कठिन है रोग ,कृपा दिनकर दिखलाओ ।।
दीन की सुन अरजी ,दिया साथ जगत जननी।
काली अंबे दुर्गा ,दुखों की हो तुम हरनी।।



प्रेमलता उपाध्याय" स्नेह"
 दमोह (मध्य प्रदेश)

★★★★★

 #पंचदेव

ब्रह्मा विष्णु महेश सह, गणपति अरु आदित्य ।
हाथ जोड़ पूजन करें, पंचदेव हम नित्य ।।

यात्रा शुभदायी रहे, होवे मंगलचार ।
पंचदेव का नाम जप, करिए सत व्यवहार ।।

अर्चन वंदन से बनें, सारे बिगड़े काज ।
पंचदेव को सुमिर के, करें जगत पर राज ।।



छाया सक्सेना प्रभु
जबलपुर (म.प्र.)

★★★★★★

 पंचदेव-बिहारी छंद


हे मात करो आज दया,भक्त पुकारे।
तू साथ चलो मात कृपा, द्वार तिहारे।
जै देव जला ज्योत बढ़ा,नाथ मुरारी।
हे लोक महा काल बचा ,जान हमारी।

हैं द्वार खड़ें भक्त अड़ें, ईश हमारे।
तू पाप मिटा शाप छुड़ा,देव सहारे।
तू साथ चलो शक्ति भरो,जीत हमारी।
ये छंद बड़ा खास लगा,वाह बिहारी।



वर्तिका अग्रवाल
वाराणसी
उ.प्र.
■■■■■■

कोई टिप्पणी नहीं

©संगम सवेरा पत्रिका. Blogger द्वारा संचालित.